होम्योपैथी में भी न्यूरोलोजिक रोगों का इलाज संभव

0
66

Hahnemann ki Aawaz posted on 11 -03 – 2019

फरीदाबाद। होम्योपैथिक डाॅक्टर्स एसोसिएशन एवं निर्मल फांउडेशन के संयुक्त तत्वाधान में न्यूरोलोजिक रोगों के निदान एवं होम्योपैथिक दवाईयों के चुनाव को लेकर एक सेमीनार का आयोजन रोनाल्ड होटल में किया गया। एसोसिएशन के अध्यक्ष डाॅ. ए.के. अग्रवाल, महासचिव डाॅ. सिमरन कौर, कोषाध्यक्ष डाॅ. एमएम अग्रवाल, डाॅ. दिलीप अग्रवाल, संरक्षक डाॅ. संजीव शर्मा, डाॅ. ललित अग्रवाल, डाॅ. पूजा ग्रोवर ने दीप जलाकर सेमीनार की शुरूआत की। प्रथम सत्र के बिजनौर से आए मुख्य वक्ता बोनिंगहसन एकेडमी के निदेशक डाॅ. कपिल शर्मा का स्वागत डाॅ. विनोद मदान एवं डाॅ. सौरभ शर्मा ने किया; मुख्य अतिथि डाॅ. शर्मा ने कहा कि अगर मरीज को ध्यान से सुनकर रोग के लक्षणों के आधार पर दवा का चुनाव किया जाए तो बहुत सी बीमारियांे में शीघ्र ही आराम देती है। उन्होंने होम्योपैथिक रैपेट्ररी का प्रयोग कैसे करे इस बारे में भी बताया। द्वितीय सत्र में डाॅ. एके गुप्ता का स्वागत डाॅ. पवनीश अग्रवाल एवं डाॅ. अर्पित मेहरा ने किया। डाॅ. ए.के. गुप्ता ने मोटर न्यूराॅन बीमारी के बारे में बताया कि यह एक डिसआॅर्डर है जिसे मोटर न्यूराॅन नष्ट होने लगते हैं जिससे सांस लेने, निगलने एवं चलने में कठिनाई आती है। उन्होंने इस बीमारी के होम्योपैथिक पद्धति से इलाज के बारे में बताया।

SHARE