कैंट सिविल अस्पताल में 56 करोड़ से 3300 स्क्वेयर मीटर में बनेगा चार मंजिला कैंसर केयर सेंटर, सस्ते में होगा इलाज अत्याधुनिक मशीनों से होगा उपचार, कंपनी को सात महीने में तैयार करके देना होगा अस्पताल

0
38

Hahnemann ki aawaz posted on 18 – 09 – 2018
अम्बाला। सिविल अस्पताल परिसर में 56 करोड़ रूपये की लागत से बनने वाले कैंसर केयर सेंटर का शिलान्यास किया गया। इस सेंटर के बन जाने के बाद कैंसर के मरीजों का इलाज करवाने के लिए निजी अस्पतालों में धक्के नहीं खाने पड़ेंगे। सेंटर का कार्य एचएलएल कंपनी को फरवरी 2019 तक पूरा करना है। इसके बाद मरीजों को काफी राहत मिलेगी। कैंसर केयर सेंटर का शिलान्यास स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने किया। यह सेंटर 3300 स्क्वेयर मीटर में बनेगा। दरअसल, कैंट सिविल अस्पताल में कैंसर केयर सेंटर बनाने की योजना तैयार हो चुकी है। मंगलवार को सेंटर का शिलान्यास किया गया। इस अस्पताल को सिविल अस्पताल परिसर में किया जा रहा है जिसे चार मंजिला बनाया जाएगा। इसके निर्माण का कार्य एजेंसी द्वारा शुरू भी कर दिया गया है। इसके बाद कंपनी को लगभग 7 महीने के समय में अस्पताल को बनाकर तैयार करना होगा।
हरियाणा का पहला राजकीय कैंसर केयर सेंटर होगा: स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने कहा कि हरियाणा में कैंसर के उपचार के लिए पहला राजकीय कैंसर केयर सेंटर स्थापित होगा ओर इसके निर्माण से प्रदेश के आसपास के क्षेत्रों के 50 लाख से अधिक लोगों को कैैंसर उपचार की सुविधाएं उपलब्ध होंगी। उन्होंने कहा कि कैंसर रोग तेजी से बढ़ रहा है और इस समय देश में कैंसर के रोगियों की संख्या 25 लाख है और इनमें 2 लाख मरीज प्रतिवर्ष जुड़ जाते हैं। भारत में प्रतिवर्ष कैंसर रोग के कारण 5.56 लाख लोगों की मृत्यु होती है। निजी क्षेत्र में इसका इलाज बहुत महंगा होने के कारण आम व्यक्ति इलाज नहीं करवा पाता और पीजीआई में ज्यादा भीड़ होने के कारण मरीजों को इलाज में दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।
यह मिलेंगी अस्पताल में सुविधाएं: इस कैंसर केयर सेंटर में कैंसर के सभी प्रकार के मरीजों के उपचार ओर देखभाल की सुविधा उपलब्ध होगी। इसमें सीनियर एक्सलेटर, रेडियो थैरेपी, किमो थैरेपी, सर्जरी, सीटी इंसुलेटर व बिक्री थेरेपी इत्यादि की सुविधाएं शामिल हैं। यह सभी सुविधाएं अत्याधुनिक हैं। वहीं राजकीय अस्पतालों में नहीं हैं। इसी के साथ अस्पताल मंे मरीजों की सुविधाओं के लिए दो लिफ्ट भी लगाई जाएंगी। स्वास्थ्य मंत्री ने पर्यावरण की मांग के अनुरूप बनने वाले इस अस्पताल में सौर ऊर्जा के प्रयोग के साथ साथ ऊर्जा संरक्षण के सभी मापदंड अपनाने के भी निर्देश दिए हैं।

SHARE